B.Ed First Year Examination Model Paper 2020 (Paper First)

B.Ed First Year Examination Model Paper 2020 (Paper First)

B.Ed Model Paper 2020 : छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय कानपुर, बीएड प्रथम वर्ष (2019-20) के फाइनल एग्जाम (वार्षिक परीक्षा) के लिए सबसे सम्भावित प्रश्न-पत्र बीएड मॉडल पेपर 2020 विद्यादूत के विषय-विशेषज्ञों ने तैयार किये है | ये प्रश्न-पत्र (Paper) आपकों बीएड परीक्षा (Bachelor Of Education Examination) की बेहतर तैयारी और प्रश्न-पत्र के प्रारूप को समझने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे | आपकों ध्यान रखना है कि ये केवल बीएड मॉडल पेपर 2020 में आने वाले सम्भावित प्रश्न-पत्र का प्रारूप है न कि वास्तविक प्रश्नपत्र | विद्यादूत के विषय-विशेषज्ञों द्वारा तैयार किया गया बीएड मॉडल पेपर 2020, बीएड प्रथम वर्ष का मॉडल पेपर (Model Paper of B.Ed First Year Examination), जिसका शीर्षक “शिक्षा के दार्शनिक परिप्रेक्ष्य” (Philosophical Perspectives of Education) है, इस प्रकार है –

B.Ed. (Part 1) Examination 2020 : Paper First

Philosophical Perspectives of Education

नोट – सभी खण्डों से निर्देश अनुसार प्रश्नों के उत्तर दीजिये |

निर्देश – अभ्यर्थी प्रश्नों के उत्तर क्रम अनुसार लिखें | यदि किसी प्रश्न के कई भाग हों तो आप उनके उत्तर एक ही तारतम्य में लिखें |

खण्ड – अ : लघु उत्तरीय प्रश्न

नोट – सभी प्रश्न अनिवार्य हैं | प्रत्येक प्रश्न 4 अंकों का है |

  1. (a) “शिक्षा और दर्शन एक ही सिक्के के दो पहलू है” स्पष्ट करें |

(b) शिक्षा का व्यवसायिक उद्देश्य क्या है ?

(c) फ्रोबेल की खेल विधि क्या है ?

(d) नकारात्मक शिक्षा क्या है ?

(e) बुनियादी शिक्षा को स्पष्ट करें |

(f) शिक्षा के व्यक्तिगत व सामाजिक उद्देश्य क्या है ?

(g) किंडरगार्टन विधि क्या है ?

(h) जे. कृष्णमूर्ति के शैक्षिक विचार को स्पष्ट करें |

खण्ड – ब : दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

नोट : किन्ही दो प्रश्नों के उत्तर दें | प्रत्येक प्रश्न 12 अंक का है |

2. आदर्शवादी शिक्षा क्या है ? आदर्शवाद के प्रमुख सिद्धांत व आदर्शवादी शिक्षा के उद्देश्य क्या है ?

3. यथार्थवाद क्या है ? यथार्थवाद के प्रमुख शैक्षिक विचारों व इसकी विशेषताओं का वर्णन करें |

4. आदर्शवादी और प्रकृतिवादी शिक्षा में मुख्य अंतर क्या है ? प्रकृतिवादी शिक्षा के अनुसार उद्देश्यों, पाठ्यचर्या व शिक्षण विधियों की व्याख्या करें |

5. स्वामी विवेकानन्द के शैक्षिक विचारों को स्पष्ट करते हुए शिक्षा में उनके योगदान पर प्रकाश डाले |

खण्ड – स : दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

नोट – किन्ही दो प्रश्नों के उत्तर दें | प्रत्येक प्रश्न 12 अंकों का है |

6. बौद्ध धर्म के अनुसार शिक्षा के उद्देश्य क्या है ? बौद्ध धर्म की प्रमुख विशेषताएं व शिक्षा में योगदान की समीक्षा करें |

7. रबीन्द्रनाथ टैगोर का शिक्षा दर्शन क्या है ? शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान की समीक्षा करें |

8. जॉन डीवी के शैक्षिक विचारों (उद्देश्य,अनुशासन, पाठ्यचर्या, शिक्षण विधि के विशेष संदर्भ में) की विवेचना करें |

9. निम्नलिखित पर संक्षिप्त टिप्पणियाँ लिखिए –

(a). औपचारिक व अनौचारिक शिक्षा |

(b). जैन दर्शन के अनुसार ‘द्रव्य’ |

नोट – उपरोक्त प्रश्नपत्र केवल मॉडल पेपर है, किसी भी त्रुटि के लिए विद्यादूत वेबसाइट अथवा विद्यादूत वेबसाइट के विषय-विशेषज्ञ ज़िम्मेदार नही होंगें |