Psychological Perspectives of Education Model Paper

छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय, कानपुर (CSJMU Kanpur) द्वारा संचालित बीएड कार्यक्रम दो शैक्षणिक अवधि (academic year) का है, जिसे अधिक-से-अधिक तीन वर्षों में पूरा किया जा सकता है | बीएड प्रथम वर्ष (B.Ed First Year) में तीन अनिवार्य प्रश्नपत्र (Three Compulsory Paper) हैं, जिनका शीर्षक है – 1. Philosophical Perspective of Education (शिक्षा के दार्शनिक परिप्रेक्ष्य), 2. Sociological Perspective of Education of India (शिक्षा के समाजशास्त्रीय परिप्रेक्ष्य), 3. Psychological Perspectives of Education (शिक्षा के मनोवैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य). विद्यादूत के विषय-विशेषज्ञों ने तीन प्रश्नपत्रों के लिए सम्भावित प्रश्नों को तैयार किया है | शिक्षा के दार्शनिक दृष्टिकोण और शिक्षा के समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण नामक प्रश्नपत्रों के लिए मॉडल पेपर पहले ही प्रस्तुत किये जा सके है, आज शिक्षा के मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण प्रश्नपत्र का मॉडल पेपर प्रस्तुत किया जा रहा है |

प्रस्तुत मॉडल पेपर “शिक्षा के मनोवैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य” छत्रपति शाहू जी महाराज यूनिवर्सिटी, कानपुर (Chhatrapati Shahu Ji Maharaj University, Kanpur) के द्विवर्षीय बी.एड. (Bachelor of Education) पाठ्यक्रम के तृतीय प्रश्नपत्र पर आधारित है | प्रस्तुत प्रश्नपत्र (B.Ed. Part 1 Examination Paper Third) के तीन खण्डों में कुल 9 प्रश्न है, आपकों निर्देशानुसार 5 प्रश्नों के उत्तर लिखने हैं |

B.Ed. (Part 1) (New Course) Examination, 2020 : Paper Third

Psychological Perspectives of Education

नोट – सभी खण्डों से निर्देशानुसार प्रश्नों के उत्तर देनें है |

निर्देश – अभ्यर्थी प्रश्नों के उत्तर क्रम के अनुसार लिखना है | यदि किसी प्रश्न के कई भाग हों तो उनके उत्तर एक ही तारतम्य में लिखने हैं |

खण्ड – अ : लघु उत्तरीय प्रश्न

नोट – सभी प्रश्न अनिवार्य हैं | प्रत्येक प्रश्न 4 अंकों का है |

1- (a) समस्या बालक से आप समझते है ?

(b) व्यक्तित्व और अभिप्रेरणा को परिभाषित करें ?

(c) शिक्षा मनोविज्ञान से आप क्या समझते हैं ?

(d) बुद्धि और बुद्धि-लब्धि से आप क्या समझते है ?

(e) प्रतिभाशाली बालक से आप क्या समझते है ?

(f) मानसिक संघर्ष क्या है ?

(g) शैशवावस्था और किशोरावस्था की समस्याओं को स्पष्ट करें |

(h) मूल प्रवृत्तियों से आप क्या समझते है |

खण्ड – ब : दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

नोट – किन्ही दो प्रश्नों के उत्तर दें | प्रत्येक प्रश्न 12 अंकों का है |

2. गिलफोर्ड के त्रिआयामी बुद्धि सिद्धांत को स्पष्ट करें |

3. समायोजन से आप क्या समझते है ? समायोजित व्यक्ति की प्रमुख विशेषताओं का वर्णन करें |

4. ‘अधिगम के सिद्धांत’ की उदाहरण सहित व्याख्या करें |

5. निम्नलिखित पर टिप्पणियाँ लिखियें –

(1). सीखने के नियमों को उदाहरण सहित स्पष्ट करें |

(2). बुद्धि के प्रमुख सिद्धांत |

Psychological Perspectives of Education

खण्ड – स : दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

नोट – किन्ही दो प्रश्नों के उत्तर दें | प्रत्येक प्रश्न 12 अंकों का है |

6. पावलाव का अधिगम सिद्धांत की व्याख्या करें | शिक्षा में इसका क्या योगदान है ?

7. स्किनर का सक्रिय अनुकूलित अनुक्रिया सिद्धांत को स्पष्ट करें |

8. मंदबुद्धि बालक कौन होते हैं ? ऐसे बालकों की शिक्षा व्यवस्था कैसी होनी चाहिए | स्पष्ट करें |

9. वंशानुक्रम और वातावरण से आप क्या समझते है ? वंशानुक्रम व वातावरण का बालक के विकास में क्या योगदान है, स्पष्ट करें |

नोट – उपरोक्त प्रश्नपत्र केवल मॉडल पेपर है, किसी भी त्रुटि के लिए विद्यादूत वेबसाइट अथवा विद्यादूत वेबसाइट के विषय-विशेषज्ञ ज़िम्मेदार नही होंगें |

ये भी पढ़ें –