UPSESSB PGT History Study Material PDF

UPSESSB PGT History Study Material PDF

विद्यादूत के इस लेख में UPSESSB PGT History Study Material PDF IN HINDI पर चर्चा करेंगें | इस लेख में PGT History Question Papers PDF को भी शामिल किया गया है | PGT History Previous Years Question Papers को भी इस लेख में समाहित किया गया है | इसके पूर्व Ancient History Question Answers PDF in Hindi पर महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री प्रस्तुत की जा चुकी है | इस लेख में पीजीटी इतिहास पर महत्वपूर्ण 100 वन लाइन अध्ययन सामग्री (PGT History Notes In Hindi) पर प्रकाश डाला गया है | अभ्यर्थियों की सुविधा के लिए इसके पूर्व PGT History Syllabus in Hindi (PGT History Ka Syllabus) भी प्रस्तुत किया जा चुका है | यह टॉपिक UPSC History Notes, UPSSSC History Notes, UPSSSC PET Study Materials, History of India in Hindi के लिए भी अत्यधिक महत्वपूर्ण है |

ये भी देखें – UGC NET PAPER FIRST STUDY MATERIALS IN HINDI

UPSESSB PGT History Study Material PDF IN HINDI

  • ईस्ट इंडिया कंपनी ने दिल्ली पर अधिकार 1803 में किया था | उस समय मुगल बादशाह शाह आलम द्वितीय था |
  •  भारत में नियुक्त प्रथम पुर्तगाली गवर्नर फ्रांसिस्को डी अल्मेडा था |
  • भारत में पुर्तगाली सत्ता का वास्तविक संस्थापक अल्बुकर्क था |
  • 1510 में अल्बुकर्क ने बीजापुर के सुल्तान से गोवा छीन लिया था, जिसे ‘एस्तादो डी इंडिया’  कहा जाता था |
  • अंग्रेजों ने दक्षिण भारत में अपनी पहली फैक्ट्री 1611 में मुसलीपट्टम में स्थापित की थी |
  • 1617 में पहली बार अंग्रेजी ईस्ट इंडिया कंपनी को सिक्का ढालने का अधिकार प्राप्त हुआ था |
  • 1632 में गोलकुंडा के सुल्तान ने ईस्ट इंडिया कंपनी को एक फरमान जारी किया था जिसे ‘सुनहरा फरमान’ कहा जाता है |
  •  अंग्रेजों द्वारा 1639 में मद्रास में की गई किलेबंदी को ‘फोर्ट सेंट जॉर्ज’ का नाम दिया गया |
  •  1668 में ब्रिटेन के राजकुमार चार्ल्स द्वितीय ने ईस्ट इंडिया कंपनी को 10 पाउंड वार्षिक किराए पर बम्बई को दे दिया था |
  • 1698 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने सुतानाती, कालीकट और गोविंदपुर की जमीदारी 1200 रुपए में प्राप्त करके ‘फोर्ट विलियम’ की स्थापना की थी | फोर्ट विलियम के प्रथम अध्यक्ष सर चार्ल्स आयर थें |

ये भी देखें : हड़प्पा सभ्यता/सिन्धु सभ्यता की नगर योजना प्रणाली

  •  फ्रांसीसियों का प्रमुख व्यापारिक केंद्र पाण्डिचेरी था |
  • 1717 में मुगल बादशाह फर्रुखसियर ने ईस्ट इंडिया कंपनी को एक फरमान जारी किया था, जिसे ‘कंपनी का मैग्नाकार्टा’ कहा जाता है |
  •  ‘काल कोठरी’ या ‘ब्लैकहोल’ की घटना 20 जून 1756 की रात्रि में हुई थी | 
  • प्लासी का युद्ध 23 जून 1757 को मुर्शिदाबाद के निकट प्लासी नामक स्थान पर ईस्ट इंडिया कंपनी और बंगाल के नवाब के बीच हुआ था |
  • बंगाल के नवाब मीर कासिम ने अपनी राजधानी मुर्शिदाबाद से मुंगेर स्थानांतरित कर ली थी | 
  • बंगाल के नवाब मीर जाफर को “कर्नल क्लाइव का गीदड़” कहा जाता था |
  •  के एम पणिक्कर ने बंगाल में रॉबर्ट क्लाइव के शासनकाल को ‘लुटेरा राज’ की संज्ञा दी है |
  • भारत में लॉर्ड रिपन ने आधुनिक स्वशासन की शुरुआत की थी |
  •  लॉर्ड वेलेजली की सहायक संधि के तहत अंग्रेजों के साथ सबसे पहली संधि हैदराबाद के निजाम ने की थी |
  • भारत में ठगी प्रथा का उन्मूलन विलियम बेंटिक के शासनकाल में कर्नल स्लीमैन ने की थी |

ये भी देखें : free Job Alert

UPSESSB PGT History Study Material PDF IN HINDI

  •  बंगाल में द्वैत शासन व्यवस्था की शुरुआत रॉबर्ट क्लाइव ने की थी और द्वैत शासन व्यवस्था को वारेन हेस्टिंग्स ने समाप्त किया था |
  • पंजाब में कूका आंदोलन के संस्थापक भगत जवाहरमल थे | भगत जवाहर मल को सैन साहब भी कहा जाता था |
  •  कॉर्नवालिस ने 1793 में बंगाल और बिहार में ‘स्थायी बंदोबस्त’ लागू किया था |
  •  लॉर्ड कॉर्नवालिस को  भारत में नागरिक सेवा का जन्मदाता माना जाता है |
  • उत्तर भारत में भूमि कर व्यवस्था का प्रवर्तक मार्टिन बर्ड को माना जाता है | 
  • भारत में प्रथम विद्युत टेलीग्राफ लाइन कोलकाता से आगरा के बीच शुरू की गई थी |
  •  भारत में प्रथम एयरमेल सेवा इलाहाबाद से नैनी तक शुरू की गई थी |
  • भारत में प्रथम डाक सेवा कलकत्ता और मुर्शिदाबाद के बीच शुरू की गई थी | 
  • भारत में ब्रिटिश सरकार ने सर्वाधिक पूंजी निवेश रेलवे में किया था | 
  • 1773 में ब्रिटिश संसद ने ईस्ट इंडिया कंपनी की गतिविधियों को नियंत्रित करने के लिए रेग्युलेटिंग एक्ट पारित किया था | भारत में रेग्युलेटिंग एक्ट के तहत ही एक सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना की गई थी |

ये भी देखें : भारत में प्रथम महिला

UPSESSB PGT History Study Material PDF IN HINDI

  • ईस्ट इंडिया कंपनी का भारतीय व्यापार से एकाधिकार 1813 का चार्टर एक्ट के द्वारा समाप्त हो गया | 
  •  1813 का चार्टर एक्ट में सर्वप्रथम भारतीयों की शिक्षा तथा साहित्य के प्रोत्साहन के लिए एल लाख रूपये वार्षिक खर्च करने की व्यवस्था की गई थी |
  • 1935 में भारत सरकार अधिनियम के द्वारा केंद्र में द्वैध शासन की व्यवस्था की गई |  1835 के अधिनियम में प्रांतों को पूर्ण स्वायत्तता प्रदान करने का प्रयास किया गया था |
  •  1935 के अधिनियम को जवाहरलाल नेहरू ने ‘अनेक ब्रेको वाली’  लेकिन ‘इंजनरहित मशीन’ कहा था |
  •  1935 के अधिनियम के द्वारा भारतीय रिजर्व बैंक और केंद्र में एक संघीय न्यायालय की स्थापना की गई थी |
  • भारत में आधुनिक शिक्षा का जन्मदाता चार्ल्स ग्रांट को माना जाता है |
  •  राजा राममोहन राय को आधुनिक शिक्षा का अग्रदूत कहा जाता है | राजा राममोहन राय को ही भारत में राष्ट्रीय प्रेस का संस्थापक माना जाता है |
  • लॉर्ड  मेटकॉफ़ को भारतीय समाचार पत्रों का मुक्तिदाता कहा जाता है |
  • 1905 में इंडियन होमरूल सोसायटी की स्थापना लंदन में श्यामजी कृष्ण वर्मा ने  की थी |
  • महादेव गोविंद रानाडे को भारत का सुकरात कहा जाता है | 

ये भी देखें : UPSSSC OTR KYA HAI

UPSESSB PGT History Study Material PDF IN HINDI

  • दिल्ली सल्तनत में  सैन्य विभाग, जिसे दीवान ए अर्ज कहा जाता था, की स्थापना बलबन ने की थी |
  • अलाउद्दीन खिलजी दिल्ली का प्रथम सुल्तान था जिसने भूमि की नाप-जोख करवाई | अलाउद्दीन खिलजी ने राज्य की समस्त भूमि को खालसा भूमि के अंतर्गत कर लिया था |
  • दिल्ली सल्तनत में मुबारक शाह खिलजी ने खलीफा की सत्ता को अस्वीकार कर दिया था और खुद को खलीफा घोषित कर दिया था | 
  • भारत में तैमूर के आक्रमण के समय दिल्ली का सुल्तान नासिरुद्दीन महमूद तुगलक था |
  • दिल्ली सल्तनत में संपत्ति की न्यूनतम मात्रा, जिस पर जकात देना पड़ता था, को निसाब कहा जाता था |
  • दक्षिण भारत में चिश्ती परंपरा का प्रारंभ शेख बुरहानुद्दीन गरीब ने किया था |
  • बीजापुर के शासक इब्राहिम आदिल शाह द्वितीय को अपने राज्य में हिंदुओं के प्रति सहानुभूति रखने और उन्हें संरक्षण देने के कारण जगतगुरु कहा जाता था | 
  • कश्मीर के शासक जैनुल आबदीन को कश्मीर का अकबर कहा जाता था |
  • संगम वंश विजयनगर साम्राज्य में सबसे ज्यादा समय तक शासन करने वाला वंश था |
  • विजयनगर दरबार के कवि पेद्न्ना को आन्ध्र कविता का पितामह का जाता है |

ये भी देखें : UGC NET Previous Years Exams Papers Download PDF Free

  • मुगल बादशाह हुमायूं ने सप्ताह के 7 दिन में सात रंग के कपड़े पहनने का नियम बनाया था | 
  • अकबर ने अब्दुर्रहीम को खानखाना की उपाधि गुजरात में 1584 में हुए विद्रोह को सफलतापूर्वक दबाने के कारण दी थी |
  • अकबर की भू राजस्व व्यवस्था का प्रवर्तक राजा टोडरमल था | राजा टोडरमल को जब्ती प्रणाली का जन्मदाता माना जाता है |
  •  मुगल बादशाह शाहजहां के शासनकाल को स्थापत्य कला का स्वर्णकाल माना जाता है |
  • मुगल बादशाह बहादुर शाह प्रथम, जिसका वास्तविक नाम मुअज्जम था, को शाहे बेखबर कहा जाता था |
  • मुगल बादशाह जहांदार शाह को लंपट मूर्ख कहा जाता था | 
  • मुगल बादशाह फर्रूखसियर को घृणित कायर कहा जाता था |

UPSESSB PGT History Study Material PDF IN HINDI

  • शिवाजी की आठ मंत्रियों की परिषद को अष्टप्रधान कहा जाता था | अष्टप्रधान का प्रधान पेशवा होता था | 
  • शिवाजी के समय जमीन पर वंशानुगत अधिकार रखने वाला व्यक्ति मिराजदार कहलाता था | 
  • बाजीराव प्रथम मराठा राज्य का द्वितीय संस्थापक माना जाता है |
  • बाजीराव प्रथम शिवाजी के बाद गुरिल्ला युद्ध का सबसे बड़ा संचालक था | बाजीराव प्रथम पेशवाओं में सर्वाधिक योग्य पेशवा था | 
  •  मराठा राज्य का अंतिम पेशवा बाजीराव द्वितीय था | बाजीराव द्वितीय एक अयोग्य पेशवा था जिसके कारण मराठा शक्ति का पतन हुआ |
  •  दक्कन में स्वतंत्र हैदराबाद राज्य की स्थापना चिनकिलिच खां (निजाम उल मुल्क) ने 1724 में की थी | 
  • स्वतंत्र बंगाल राज की स्थापना  मुर्शिद कुली खां और अलीवर्दी खां की थी |
  • जाट नेता सूरजमल को जाटों का अफलातून अथवा जाट जाति का प्लेटो कहा जाता है |
  • चोल सत्ता (800-1200 ई) की स्थापना विजयालय की थी | विजयालय ने नरकेसरी की उपाधि धारण की थी |
  • कन्नौज पर अधिकार को लेकर हुए त्रिपक्षीय संघर्ष में अंतिम रूप से विजय गुर्जर प्रतिहारों की हुई थी |

  •  प्रतिहार वंश के शासक भोज को मिहिरभोज भी कहा जाता है | भोज ने आदिवराह और प्रभास की उपाधि धारण की थी |
  • परमार वंश के शासक भोज ने कविराज की उपाधि धारण की थी | परमार राजा भोज ने भोजपुर नगर और भोजसर नामक तालाब का निर्माण करवाया था |
  • कल्हण ने अपनी राजतरंगिणी की रचना लोहार वंश के अंतिम शासक जयसिंह के शासनकाल में की थी | 
  • कश्मीर के लोहार वंश के राजा हर्ष को कश्मीर का नीरो कहा जाता है | 
  • सबसे पहले ह्वेनसांग  ने कृषि को शूद्रों का व्यवसाय बताया था
  •  कायस्थों का सबसे पहला वर्णन याज्ञवल्क्य स्मृति में प्राप्त होता है |
  • जाति के रूप में कायस्थों का पहला उल्लेख ओशनम स्मृति से प्राप्त होता है |
  • गुप्तोत्तर काल का सबसे प्रसिद्ध बंदरगाह ताम्रलिप्ति (बंगाल) था |
  •  गुप्त काल के अंतिम चरण में पाटलिपुत्र का पतन हुआ और कन्नौज का उत्थान हुआ |
  • गुप्त साम्राज्य का सबसे बड़ा अधिकारी कुमारामात्य होता था |
  •  मंदिर बनाने की कला का जन्म गुप्तकाल में हुआ था |
  •  चंद्रगुप्त प्रथम को गुप्त मुद्रा का जन्मदाता माना जाता है |

UPSESSB PGT History Study Material PDF IN HINDI

  • गुप्त काल की प्रथम मुद्राएं राजारानी प्रकार (लिच्छवी प्रकार) की मुद्राएं हैं |
  • समुद्रगुप्त ने आर्यावर्त के 9 राजाओं और दक्षिणावर्त  के 12 राजाओं को पराजित किया था |
  •  गुप्त काल में पुलिस विभाग का प्रमुख दण्डपाशिक कहलाता था | 
  • फाह्यान बताता है कि गुप्तकालीन बाजारों में साधारण लेनदेन में कौड़ियों का इस्तेमाल होता था |
  • सती प्रथा का पहला अभिलेखीय प्रमाण 510 ईसवी में एरण अभिलेख में मिलता है |
  • गुप्त सम्राट कुमारगुप्त को शक्रादित्य भी कहा जाता था | सम्भवतः कुमारगुप्त ने ही नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना की थी |
  • देवगढ़ का दशावतार मंदिर गुप्तकालीन मंदिर कला का सर्वोत्तम उदाहरण है | 
  • सर्वप्रथम सोने के सिक्के हिंदू यूनानी राजाओं ने जारी किए थे और सिक्कों पर लेख उत्कीर्ण करवाया था |
  • संस्कृत भाषा का सबसे बड़ा अभिलेख शक राजा रुद्रदामन का जूनागढ़ अभिलेख है | 
  • देवगढ़ का दशावतार मंदिर (गुप्त काल में निर्मित) मंदिर निर्माण का ऐसा पहला उदाहरण मिलता है जिसमें शिखर का प्रयोग हुआ है |

ये भी देखें : राष्ट्रपति की कार्यपालिका शक्तियों को जानें

  •  भारतीय-यूनानी राजा मेनाण्डर ने बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया था वही हेलियोडोरस ने भागवत धर्म को स्वीकार कर लिया था |
  • अशोक ने बौद्ध धर्म अपनाने के बाद बौद्ध धर्म प्रचारको के माध्यम से  मध्य एशिया, जापान, चीन, तिब्बत, बर्मा, कम्बोडिया, थाईलैंड में बौद्ध धर्म पहुंचाया |
  •  महाविभाषा सूत्र को बौद्ध धर्म का विश्वकोश कहा जाता है | महाविभासा सूत्र की रचना वसुमित्र ने की थी |
  •  भगवान बुद्ध की मूर्तियां सबसे ज्यादा गांधार कला के अंतर्गत  बनी है | अब तक  भगवान बुद्ध की मूर्तियां  दो रूपों में मिली है – खड़ी हुई रूप में  और बैठी हुई रूप में |
  • भूमि दान का प्रथम अभिलेख सातवाहनों के समय (प्रथम शताब्दी ईसा पूर्व) का प्राप्त हुआ है |
  •  कुषाण राजा कनिष्क ने  कश्मीर को जीतकर  कनिष्कपुर नगर की स्थापना की थी |
  •  बौद्ध दार्शनिक नागार्जुन को भारत का आइंस्टीन कहा जाता है | नागार्जुन की तुलना मार्टिन लूथर से की जाती है |
  • अवतारवाद का प्रथम स्पष्ट उल्लेख भगवद्गीता में मिलता है |
  •  बौद्ध ग्रंथ सुत्तपिटक को  आरंभिक बौद्ध धर्म का इनसाइक्लोपीडिया कहा जाता है |
  • चार आश्रमों का प्रथम उल्लेख जाबाल-उपनिषद में मिलता है |
  • अथर्ववेद में नरिष्ठा वह स्थान था, जहाँ सामूहिक वाद-विवाद होता था |

नोट : विद्यादूत (विद्यादूत वेबसाइट) के सभी लेखों का सर्वाधिकार सुरक्षित है | किसी भी रूप में कॉपीराइट उल्लंघन का प्रयास न करें |

UPSESSB PGT History Study Material PDF IN HINDI से सम्बन्धित किसी भी प्रश्न का उत्तर आप नीचे कमेंट बॉक्स के द्वारा पूछ सकते है | आप हमे विद्यादूत यूट्यूब (vidyadoot youtube channel) और फेसबुक पेज (vidyadoot facebook page) को भी फॉलो कर सकते है |

ये भी देखें : ALL ABOUT INDIA